तेरा दीदार


पूर्णिमा की रात, होगा बेशक तेरा
दीदार किसी तरह |
मगर निकल गया बेवफा ये आसमां भी तेरी तरह ||

उस रात, रात भर छाई घटायें फलक में चारो ओर |
चाँद दिखा ना तुम दिखे , अमावस्या की तरह ||




शेखर कुमावत

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया मुक्तक है ये तो!
    प्रतिदिन कुछ न कुछ लिखते रहो!
    निखार आता जायेगा!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ना चाँद दिखा ना तुम दिखे , अमावस की तरह ||
    बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर मुक्तक !!! बेहतरीन लेखन । आपका ब्लॉग सुंदर लगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. संवेदनशील प्रस्तुति......
    http://laddoospeaks.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेबफाओ की महफ़िल मैं बेबफा से बफा कर बैठे
    सच्चे आशिक का यही अंजाम होता हैं
    बहुत सुन्दर मुक्तक!
    अंतेमन को छु गया

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर मुक्तक के लिए मेरी बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. शेखर भैया!
    ब्लोग बहुत सुंदर है. कविता में और कसावट लाओ.
    शाबाश! लगे रहो!

    उत्तर देंहटाएं
  8. संवेदना को सलाम | आप बहुत छोटे हो , हाँ मेरा शेर टूटे हुए दिलों को जरुर सुनाना , ये भी एक सच है कि जब हम दर्द की परवाह करना छोड़ देते हैं तब गम भी रफूचक्कर हो जाता है |

    उत्तर देंहटाएं
  9. मगर निकला बेवफा ये आसमा भी तेरी तरह...

    वाह क्या खूब कहा...सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  10. महका गये आपके अल्फाज
    गुनगुनाने को फिर से
    लो शाम गिर आयी

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत कम शब्दों में आप अपनी बात कह देते हैं, अच्छा लगा आप को पढना

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत खूब लिखते हो शेखर जी. लगता है साहित्य आपके संस्कारों में कूट-कूट कर भरा हुआ है. लगभग सभी रचनाएँ बेहतरीन हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. पूर्णिमा की रात, होगा बेशक तेरा दीदार किसी तरह |
    मगर निकला बेवफा ये आसमां भी तेरी तरह ||

    रात भर छाई रही घटायें, फलक में चारो ओर |
    ना चाँद दिखा ना तुम दिखे , अमावस की तरह ||
    Behad dilkash muktak!

    उत्तर देंहटाएं
  14. पूर्णिमा की रात, होगा बेशक तेरा दीदार किसी तरह |
    मगर निकला बेवफा ये आसमां भी तेरी तरह ||
    BAHUT SUNDAR!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह कुमावत जी...चार पंक्तियों में ही बहुत कह दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  16. in char panktiyo me kitana kuchh kah dia aapne .kamal ka likhte hai.

    उत्तर देंहटाएं
  17. Bahut hi nikharti hui abhivyakti se roobaroo hui hoon. Badhayi evam shubhkamnayein

    Devi nangrani

    उत्तर देंहटाएं