मोहब्बत है तो है


 

मुझे उनसे, मोहब्बत है तो है
उसे भी मुझसे नफरत है तो है

चाहूँ में उसको, ये आरजू मेरी
ये जमाने से बगावत है तो है

ख्वाबो में उसके, में आ जाउँ
ये मेरी दिली हसरत है तो है

उम्र भर रहना है, जुदा होकर
ये मेरी बदकिस्मत है तो है

 © Shekhar Kumawat 



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Facebook Badge