मुक्तक :- तुमसे पलटा न गया


उठ कर जो गये तुम, हमसे देखा भी न गया |
जाम छलकते रहे , हमसे पिया भी न गया ||

आज भी आवाजें देता हूँ हर रात के अँधेरे में |
खड़ा हो उसी मोड़ पर, जहाँ तुमसे पलटा गया ||

[FTARDE.gif]
शेखर कुमावत


20 टिप्‍पणियां:

  1. आज भी आवाजें देता हूँ हर रात के अँधेरे में |
    खड़ा हो उसी मोड़ पर, जहाँ तुमसे पलटा न गया ||


    इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. sanjay ji aap ka yahi apar pyar hame likhane ko majbur kar deta he

    aap ki shubh kamnao ka swagat he


    shekhar kumawat

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज भी आवाजें देता हूँ हर रात के अँधेरे में |
    खड़ा हो उसी मोड़ पर, जहाँ तुमसे पलटा न गया ||
    Bahuthi sundar....kya kahen, dilme ek tees uth gayi..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज भी आवाजें देता हूँ हर रात के अँधेरे में |
    खड़ा हो उसी मोड़ पर, जहाँ तुमसे पलटा न गया | ek marmsprshi muktak

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर मुक्तक है जी!
    इसकी चर्चा यहाँ भी है-
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/04/blog-post_03.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज भी आवाजें देता हूँ हर रात के अँधेरे में |
    खड़ा हो उसी मोड़ पर, जहाँ तुमसे पलटा न गया ||
    waah...........kya baat kah di.........dil ko chhoo gayi........gaagar mein sagar bhar diya.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन शानदार रचना..उम्मीद है ऐसी ही रचनाएं हमें आगे भी पढ़ने को मिलेगी

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम से पलटा न गया--- बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  10. उस्ताद जी .. उम्र से ज्यादा गहरी बाते है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. mere khayal se aap b.a. ke student honge. blog hindi mein likhen to bhasha ki vertani ko shuddh rakkhen, bhale hi samay thoda jyada lage. sahitya mein ruchi hai to achchhi kitabon ka chayan karen aur use padhen. meri shubhkamnayen.muktakon per mehnat karen. vks185@reiffmail.com

    उत्तर देंहटाएं