हैं माँ ......................

हैं माँ
मेने देखा
मैंने समझा

ये दुनिया कितनी छोटी हे
और तेरा आँचल कितना बड़ा हे

तेरे आँचल में मिले मुझे लाख फूल
दुनिया में मिले कदम कदम पर लाख शूल

तुने हर कदम पर संभाला
दुनिया ने हर कदम पर गिराया

सबसे बड़ा तेरा दिल
बाकी सब पत्थर दिल

बस माँ तेरा तेरा आँचल मिले
रख कर उस में सिर

मीठी मीठी लोरी सुनु
प्यारी प्यारी बाते सुनु

बस माँ तेरा आँचल मिले

शेखर कुमावत

27 टिप्‍पणियां:

  1. मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत भाव....अच्छी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको मातृ दिवस की बहुत-बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. maa ka anchal humesha apne bachchon par hota hai, nahin to tumhari choti si taklif main vo saari raat jagkar yun hi nikal deti

    kabhi naa bhoole maa ka samma
    tabhi hoga asli mother's-day

    aapki kavita bahut achchhi hai
    aapko dhnyvad

    उत्तर देंहटाएं
  5. संसार की समस्त माताओं को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको मातृ दिवस की बहुत-बहुत बधाई

    दुनिया की हर माँ को मेरा शत-शत नमन

    उत्तर देंहटाएं
  7. मातृ दिवस की शुभकामना!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर भाव्……………।कल के चर्चा मंच पर आपकी पोस्ट ले ली गयी है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. माँ का आँचल सबसे बड़ी सौगात है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. bhai shekhar nice poem mother is next and living god on earth.happy mothers day

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी रचना बहुत बढ़िया है!

    मातृ-दिवस पर
    ममतामयी माँ को प्रणाम तथा कोटि-कोटि नमन!

    उत्तर देंहटाएं
  12. मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  13. Maa se badhkar koi nahin hota hain.
    Maa ki aankho main bachha chand ka tukda
    hota hain.
    Maa ki mamta ki daulat ke aage har khazana
    pheeka lagta hain.

    उत्तर देंहटाएं
  14. Maan ke aanchal mein hi asli sansaar hai ... bahut hi anupam rachna Shekhar ji ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. मातृ दिवस के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  16. दुनिया की हर माँ को मेरा नमन ...........

    उत्तर देंहटाएं
  17. kumawat ji aap ki hey man kavita padhne ko mili achhi lagi. man ke anchal ka pyar sajone mein uchit shabdon ka pryog hua hai.
    isi ke saath kuch aur bhi kavitayen padhne ko mili kintu un mein urdu parak bhasha ka prayo adhik hai. sahityikta lane ke liye hindi mein anwashyak dusri bhasha ko na thunse to achha rahega. aapka dhara p[ravah to achha hai, mehnat kijiye. meri shbhkamnayein sweekar karein

    उत्तर देंहटाएं
  18. iss prakar ki kavitaaon me jo apnatv chhalakta hai vo apne iss prakar bayan kiya hai k koi b insaan jo apni maa se pyar karta hai apko sarahe bina nahi reh sakta shekharji boht khooooooobbbb

    उत्तर देंहटाएं