खुदा से मोहब्बत होगी..


रहेगी सारी बंदिशे रूह और जिस्म के साथ.
 
कफ़न के साथ तो सिर्फ खुदा से मोहब्बत होगी..

© शेखर कुमावत

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Facebook Badge