याद तो आएगी तुझे......


याद तो आएगी तुझे, हमने मोहब्बत जो की है |
पलको पे बिठा कर तेरी इब्बादत जो की हैं ||  

ओह यारा, अब हमसे इतनी नफ़रत तो ना कर |
तेरी जुदाई में तड़फ के ये ज़ह्मत जो की है ||

ज़ह्मत= मन की परेशानी, दर्द

 © 'शेखर कुमावत'

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Facebook Badge