विनती मांकी हुणिंजों , पवन पुत्र हडुमान |


विनती माकी हूणिजो, पवन पुत्र हडुमान |
संकट सबका टाळजो , महावीर बलवान ||

सीता रा संकट हरया, पायो जग में नाम |
त्यूं सबकी रक्षा करो , सिद्ध करो सब काम ||


http://4.bp.blogspot.com/_dEbfb1gFzzY/S7I3E4l4ZTI/AAAAAAAAAI4/jwRYyrAqEi4/s1600/hanuman_poster_PX94_l.jpg
शेखर कुमावत

14 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. सीधी सी बात हे धीरे धीरे लाइन में आ रहे हें

    शेखर कुमावत

    जवाब देंहटाएं
  3. आपका परिचय पढ़ा बहुत अच्छा लगा | श्री हनुमानजी की प्रार्थना भी बहुत अच्छी लगी

    जवाब देंहटाएं
  4. हनुमानजी की बहुत अच्छी प्रार्थना.

    जवाब देंहटाएं
  5. हनुमान जी की प्रार्थना बहुत बढ़िया लगा!

    जवाब देंहटाएं
  6. rajasthani me hanumaan ji ka gungaan bahut accha laga.likhane ke liye dhaniyavad.

    जवाब देंहटाएं
  7. हनुमान जी की प्रार्थना बहुत बढ़िया लगा!

    जवाब देंहटाएं
  8. हनुमान जी की प्रार्थना बहुत बढ़िया लगा!

    जवाब देंहटाएं
  9. भक्ति की कोई भी भाषा हो प्‍यारी लगती है, आज बज़ के जरिये आपसे जुडना हुआ और आपके ब्‍लाग को देखने का शुभ अवसर मिला, बधाई व धन्‍यवाद

    आपका प्रमेन्‍द्र

    जवाब देंहटाएं
  10. शेखर हनुमान के प्रति आपका समर्पित भाव प्रकट होता है . परन्तु विनती माकी हुणिंजों मैं एक मात्रा काम है . ......हुणिंजों में "णी" बड़ा करदें .

    सीता रा संकट हरिया पंक्ति में दो मात्रा बढ रही हैं . पदांत मैं तुक नहीं मिली है.. सीता रा संकट हरया, पायो जग में नाम .. भी हो सकता है ...

    जवाब देंहटाएं
  11. I think future of Rajasthani is bright.
    Thaa bargaa yuva jad jan-wani likbo start kar diya h.

    जवाब देंहटाएं

Facebook Badge