तुम से रूठ कर.......

तुम से रूठ कर कहाँ जायेंगे हम |
दिल
तेरा तोड़ कर क्या पाएंगे हम ||

ये तो दुनिया का रिवाज है प्रीतम |
जो बिछड़ कर ही मिल पाएंगे हम ||


http://3.bp.blogspot.com/__wHrcKlDksE/SfqezmLQZXI/AAAAAAAAARI/TifzCZA8rog/s320/you+na+muje+ko+dekh.jpg

:- Shekhar Kumawat

33 टिप्‍पणियां:

  1. तुम से रूठ कर कहा जायेंगे हम
    तेरा दिल तोड़ कर क्या पाएंगे हम ...

    lajawaab शेर ... सच है unke bina kuch नहीं hota ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. sach hi kha hai kisi ne dil jis se lag jata hai use kabhi nahi bulaya ja skta
    Ravi Gupta

    उत्तर देंहटाएं
  3. कम शब्दों में बहुत कुछ बयां कर दिया आपने.... बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच कहा यही दुनिया का रिवाज़ है जीते जी कौन कब किससे मिला है……………बहुत ही सुन्दर भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द एवं भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bina bichhade milna bhi koyi milna hua? Jab tak bichhoh ka dard nahee sahte,milan kaa anand kahan?

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छी कविता ...अंतिम पंक्तियाँ तो बहुत ही अच्छी लगीं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. यार, घिसी पिटी बात है, हज़ार बार दोहराई गई....कुछ नया कहो...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप का बन्नेर मुझे बहुत पसंद है

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
    कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिल तोद कर दर्द के सिवा क्या मिलेगा। अच्छी सोच है। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. तुम से रुठ कर कहा जायेंगे हम !बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं