तेरा दीदार


पूर्णिमा की रात, होगा बेशक तेरा
दीदार किसी तरह |
मगर निकल गया बेवफा ये आसमां भी तेरी तरह ||

उस रात, रात भर छाई घटायें फलक में चारो ओर |
चाँद दिखा ना तुम दिखे , अमावस्या की तरह ||

शेखर कुमावत

11 टिप्‍पणियां:

  1. लो जी आशीर्वाद चाँद भी दिख जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है, अभी अभी मैं ऐसे इस विषय पर लिख रही थी और तुमने पहले ही लिख के रखा है. बहुत सुन्दर.

    --

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज़रा पलट और फ़िर से देख
    चाँद झाँक रहा है मेरी तरह...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रचना!
    --
    मंगलवार के साप्ताहिक काव्य मंच पर इसकी चर्चा लगा दी है!
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. अहसासों की खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं