की वो साथ नहीं ............


जो ख़्वाबों मे था , वो हकीकत नहीं |
जिसके सपने संजोये वो जन्नत नहीं ||

अरमानों के मोती जो हमने चुने कभी |
ज़माने के बाजारों मै हकीकत नहीं ||

मेरी किस्मत ने भी मुझे दगा दे दिया |
फिर भी खुदा से कोई शिकायत नहीं ||

अब याद ना कर 'शेखर' बार बार उसे |
खुश किस्मत ही समझ कि वो साथ नहीं ||



:- शेखर कुमावत

47 टिप्‍पणियां:

  1. लाजवाब।
    जो ख्वाबो मे था , वो हकीकत नहीं |
    जिसके सपने सजोये वो जन्नत नहीं ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया गजल है!
    लाइनों के अन्त में "है" और लगा दिया जाता तो बहुत अच्छा रहता!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब याद ना कर 'शेखर' बार बार उसे |
    खुश किस्मत ही समझ की वो साथ नहीं ||
    Uff! Yah kaisee vidambana hai!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब !
    वो आखिरी बार भी धोखा दे जाएगी सोचा ना था
    जिंदगी इसबार भी रुलाएगी ये सोचा ना था
    रत्नेश त्रिपाठी

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब याद ना कर 'शेखर' बार बार उसे |
    खुश किस्मत ही समझ की वो साथ नहीं ||

    किसकी खुशकिस्मती है ,,,,!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. जो ख्वाबो मे था , वो हकीकत नहीं |
    जिसके सपने सजोये वो जन्नत नहीं ||

    अरमानो के मोती हमने चुने थे कभी |
    वो जालिम ज़माने मे हकीकत नहीं ||
    ....बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. जो ख्वाबो मे था , वो हकीकत नहीं |
    जिसके सपने सजोये वो जन्नत नहीं ||

    लाजवाब।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये बिल्कुल मेरी अपनी कहानी है पर में अपने आप को खुश नसीब नही समझ सकता यार करना नही भुला सक्ता क्या करूं,
    आखिर ये दिल का मामला हैं, आराम का नही

    उत्तर देंहटाएं
  9. अरमानो के मोती हमने चुने थे कभी
    वो जालिम ज़माने मे हकीकत नहीं ....

    अरमानों को प्यार की खुश्बू मिले तो वो हक़ीकत बनते हैं .... वरना कुछ नही ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह …………………बहुत ही सुन्दर भाव्।

    उत्तर देंहटाएं
  11. खूबसूरत अभिव्यक्ति....बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  12. badhiya likha hai , kalpna ki dunia hai , jaise marji samjha lo dil ko !

    उत्तर देंहटाएं
  13. Ab yaad na kar Shekhar...

    " Na shikwa yaar se, na shiqayat rakeeb se, Jo bhi hua khuda se hua, ya naseeb se. "

    उत्तर देंहटाएं
  14. खुश किस्मत ही समझ कि वो साथ नहीं ||
    bilkik sahi likha hai.
    http://udbhavna.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह क्या बात है! शानदार ग़ज़ल लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  16. अब याद ना कर 'शेखर' बार बार उसे |
    खुश किस्मत ही समझ कि वो साथ नहीं
    बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं
  17. अब याद ना कर 'शेखर' बार बार उसे |
    खुश किस्मत ही समझ कि वो साथ नहीं ||
    waah bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत बढिया ।

    शिकवा की जगह यदि शिकायत लिखते थो आपके बाकी के काफिये से मेल खाता ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत ही खूबसूरत -पवित्र -सकारात्मक सोच -
    मन को छू गया .
    अनेक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. अजी कहाँ गायब हो गए हो आप जनाब

    उत्तर देंहटाएं
  21. अरमानो के मोती हमने चुने थे कभी |
    वो जालिम ज़माने मे हकीकत नहीं ||

    bahut sundar rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  22. मेरी किस्मत ने भी मुझे दगा दे दिया |
    फिर भी खुदा से कोई शिकायत नहीं ||

    शिकायत होनी भी नही चाहिए,ये तो जिंदगी है .....क्या खूब कहा
    सुंदर रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  23. aapki kavita he maan achchhi lagi shabdon ka samyojan aur chayan donhi utkrisht evam swabhawik lage.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर कल्पना और कृति

    उत्तर देंहटाएं
  25. अरमानों के मोती हमने चुने थे कभी |
    वो जालिम ज़माने मै हकीकत नहीं ||
    बेहद खुबसूरत....

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ उम्दा रचना लिखा है आपने!
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं