इशारो की जबां..............

छिपायें रखना जज्बातों को अच्छा नहीं |
डरते जाना जालिम ज़माने से अच्छा नहीं ||

ना समझ सके जो इशारो की जबां को |
उन्हें जुबां से समझाना भी अच्छा नहीं ||


http://4.bp.blogspot.com/_KJXYLC7TsEQ/SuLkKCx3QvI/AAAAAAAAAPE/AshmU_SkZA0/s320/yaad.jpg

39 टिप्‍पणियां:

  1. शेखर जी!
    बहुत ही बढ़िया है आपके दोनों शेर!

    उत्तर देंहटाएं
  2. शेखर जी!
    बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  3. शेखर जी!
    बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  4. sirph char laainon men kaha kisi kitab men chipe saar se adhik behatareen hai.
    bahut sundar kaha.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब .....!!
    तस्वीर उससे भी खूब .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. good.
    aapko milane waale itane comments par jiyaa jalataa hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. kam sabdho main keh dena har ehsaas, yeh har kisike bas ki baat nahi.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब.....इशारों की जुबान जो समझ जाये वो हर जुबान समझ सकता है....

    उत्तर देंहटाएं
  9. na samajh sake jo esaron ki jubako'unhe juba se samjhana achha nahi,, bahut khub. Shandar post

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छा लिखा है ... इशारों की ज़ुबान समझ आनी ही चाहिए ... क्या बात है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. vaah baat hee vo hai jo ishaaroM se samajh aa jaaye. khoobasoorat ehasaas

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपके भीतर साहित्य को समझने की ललक को काव्यवाणी में प्रगट करना हृदय को छू गया।आप जैसा एक होनहार युवासाहित्यकार ही ऐसा स्वीकार कर दूसरों को भी प्रेरित कर सकता है।अन्यथा कवि होने का दम्भ भरने वाले आकर्मण्य निगुरे स्वयंभु्वों की वजह से तो साहित्य रसातल की ओर जा रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...अंतर्मन के भाव !!
    ____________________
    'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग पर हम प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटती रचनाओं को प्रस्तुत कर रहे हैं. आपकी रचनाओं का भी हमें इंतजार है. hindi.literature@yahoo.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह भाई वाह मान गये आपको पहली बार आपके ब्लाग पर आये पर दिल जीत लिया आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर
    मातृ दिवस के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें और मेरी ओर से देश की सभी माताओं को सादर प्रणाम |

    उत्तर देंहटाएं
  17. kavita to achhi hai hi lekin ye pic bhi bahut achhi hai

    उत्तर देंहटाएं

Facebook Badge