हालात-ए-सूरत.....

हालात-ए-सूरत बदलनी चाहिए ।
तब्दीली जमीं पे दिखनी चाहिए ।।

गुलिस्ता में फूल खिले ना खिले ।
चहरो पे रौनक दिखानी चाहिए ।।

© Shekhar Kumawat


तेरा चहरा ....

तुझेे मेरा चेहरा देख के याद आती है..
मुझे हर चेहरा देख के तेरी याद आती है...

© Shekhar Kumawat



खुदा की इब्बादत....

अपनी मोहब्बत पर इतना इल्म न कर.
खाक-ए-बदन पे इतना फक्र न कर..  
इश्क तो खुदा की इब्बादत है यारा.
इसे ठुकरा कर उसकी तौहीन न कर..



इल्म = ज्ञान, जानकारी
फक्र = गर्व
तौहीन = बेइज़्ज़ती, अपमान

© Shekhar Kumawat

खुदा से मोहब्बत होगी..


रहेगी सारी बंदिशे रूह और जिस्म के साथ.
 
कफ़न के साथ तो सिर्फ खुदा से मोहब्बत होगी..

© शेखर कुमावत

याद तो आएगी तुझे......


याद तो आएगी तुझे, हमने मोहब्बत जो की है |
पलको पे बिठा कर तेरी इब्बादत जो की हैं ||  

ओह यारा, अब हमसे इतनी नफ़रत तो ना कर |
तेरी जुदाई में तड़फ के ये ज़ह्मत जो की है ||

ज़ह्मत= मन की परेशानी, दर्द

 © 'शेखर कुमावत'

Facebook Badge