उम्र भर............

उम्र भर ठोकरे खाई, मझिल तक पहुचने के लिये  । ।
जख्म तक होसला देते रहे, रास्तो पे चलने के लिये ॥
में मुस्कुराता रहा, और हालत कुछ यु बदलते रहे । 
मंझिल पे पहुचा तो पता चला कब्र है अब जीने के लिये ॥


Umer Bhar Thokre Khai , Manjhil Tak Pahuchne Ke Liye |
Jhakham Tak Hosla Dete Rahe, Rasto Par Chalne Ke Liye ||

Me Muskurata Raha, Or Halat Kuch Yu Badlte Rahe |
Manjhil Pe Pahucha To Pata Chala, Kabr He Ab Jine Ke Liye ||
 
 :- शेखर कुमावत

1 टिप्पणी:

  1. मंजिल ख़त्म होने पे सफ़र भी तो ख़त्म हो जाता है ..

    उत्तर देंहटाएं