सुहानी यादो से.............

सुहानी यादो से ना हमको सताया करो ।
ख्वाबो में आकर ना रुलाया करो ।।

दो पल के दिन, चार पलो की राते है।
रूठ कर न हमें यादो में दफ़नाया करो।।

कोई खता हो तो खता की सजा दो हमे ।
रह कर दूर, हुस्न से ना तडफाया करो ।।

मोहब्बत की सजा क्या मोत से कम है।
लिख लिख कर नाम मेरा मिटाया करो ।।


शेखर कुमावत

उनकी यादो ने ........

उसकी यादो ने जो दीवाना बनाया है |
क्या ये कयामत के करीब लाया है ।
खुदा जाने अंजाम
दिल का क्या होगा ।
आज
फिर उनकी यादो से बहलाया है ।


Unki Yado Ne Jo Diwana Banaya He...
Kya Ye Kyamat Ke Karib Laya He...

Khuda Jane Anjam Dil Ka Kya Hoga...
Aaj Fir Unki Yado Se Bahlaya  He.
..

  © Shekhar Kumawat

तू जो साथ ना देता..........

कैसे जीते तेरे बिन ये ना जानते हम  |
दुनिया की भीड़ में कहीं खो जाते हम  ||
तू जो साथ ना  देता संग चलने का |
तो पहली ही ठोकर में गिर जाते हम ||


 Kaise Jite Tere Bin Ye Na Jante Ham .
Duniya Ki Bhid Me Kahi Kho Jate Ham ..
Tu Jo Sath Na Deta Sang Chalne Ka .
To Pahli Hi Thokar Me Gir Jate Ham..

 © Shekhar Kumawat

दिल के आँगन मे.............

दिल के आँगन मे जब वो ही रहते है ...
इन आँखों से क्यूँ आसु बहते है ....
जाने क्या होगा अंजाम दिल लगी का ...
जब उनकी सासो से हम जीते है ....

Dil Ke Aangan Me Jab Wo Hi Rahte Hai .
In Aankho Se Kyun Aansu Bahte Hai .
Jane Kya Hoga Anjam Dil Lagi Ka .
Jab Unki Saso Se Ham Jite Hai .
 


 © Shekhar Kumawat