दर्द का ये आलम.......

दर्द का ये सेलाब , अब कम होगा |
आंसुओ का बहना, अब बंद होगा ||

फिर कैसे भूल जाऊ तेरी यांदो को |
बिन तेरे तो जीना भी आसाहोगा ||
http://editkutter.files.wordpress.com/2010/02/z59793675.jpg

:- शेखर कुमावत

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्‍छी रचना .. शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. Nihayat sundar rachana!
    Gantantr diwas kee haardik badhayee!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मर्म स्पर्शी भाव शेखर जी !!!!!!!!!

    आपके पोस्ट से प्रेरित होकर कुछ भाव कलमबद्ध किये हैं . समय मिले तो पढना . check today's post for reference
    http://saralkumar.blogspot.com/2011/01/blog-post_27.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्‍छी रचना .. शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं

Facebook Badge