उठा भी दो पर्दा...........

कोई बात तो होगी मुझमे भी|
लगन लगी है
जो तुझमे भी ||

उठा भी दो पर्दा अब चहरे से |
प्रीत जगी है अब मुझमे भी ||


http://4.bp.blogspot.com/_TWGNRiAs_Bg/SmHHGMO81mI/AAAAAAAAANc/vweAMeFrVJ4/s640/20090407113302aankhe.jpg


शेखर कुमावत

20 टिप्‍पणियां:

  1. ग़ज़ब ...बहुते ग़ज़ब.... क्या लाइन लिखी है....

    उत्तर देंहटाएं
  2. waah...bahut khub...
    ----------------------------------
    मेरे ब्लॉग पर इस मौसम में भी पतझड़ ..
    जरूर आएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. उठा भी दो पर्दा अब चहरे से
    जगी है प्रीत अब मुझमे भी....

    प्रीत की सुंदर बानी ....
    प्रीत दोनो तरफ हो तो बात ही क्या ,.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इतना संक्षिप्त ????
    सुन्दर भाव है...थोडा विस्तार दें...

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुम्हारी चार लाइनों कि गहराई किसी ग़ज़ल से कम नहीं. बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पर्दे में रहने दो...
    पर्दा न उठाओ..........

    उत्तर देंहटाएं
  8. सीधी सादी बात की बेहतरीन प्रस्तुति...ये चित्र कहाँ से लाये आप? वाह...लाजवाब है...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं