हाय ! ऐसी मोहब्बत

इस भरी दोपहरी में, क्यूँ शमा जलाए बैठी हो |
किसका इंतजार है , जो द्वार खोले बैठी हो||

ये कैसी तलब है, जो पलके बिछाए बैठी हो|
ये कैसी तन्हाई है, जो बेचैन हुए बैठी हो||

निकला पतझड सावन, निकला बसंत-बहार |
किसका इंतजार है, जो आस लगाए बैठी हो ||

कैसे कैसे राज़ जो ख़ामोशी ने छिपायें रखे है |
हाय ! ऐसी मोहब्बत जो परदेसी से कर बैठी हो ||

http://2.bp.blogspot.com/_dEbfb1gFzzY/S9bfrf5MI_I/AAAAAAAAAP0/wwHTQmrqTEY/s1600/lady_poster_angelslover_com.JPG


:- शेखर कुमावत

47 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह... विरह की भावना से ओत-प्रोत.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Shayad aise hee ahsaas hote hain,jab kisee se juda hote hain..

    उत्तर देंहटाएं
  3. विरह भावना का सुन्दर चित्रण....

    उत्तर देंहटाएं
  4. शेखरजी
    प्रेम की अच्छी रचना है ,
    हां , शिल्प की कसावट अभ्यास से आएगी । प्रयास जारी रखें
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं
  5. shekhar ji bahut khoob lagi rachna

    निकला पतझड सावन, निकला बसंत-बहार |
    किसका इंतजार है, जो आस लगाए बैठी हो |

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति। आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी रचनाओँ में निखार आने लगा है!
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. निकला पतझड सावन, निकला बसंत-बहार |
    किसका इंतजार है, जो आस लगाए बैठी हो ||

    बहुत सुन्दर, बेहतरीन !

    उत्तर देंहटाएं
  9. विरह को खूबसूरती से सहेजा है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. is kavitaa ko padhkar aisa lagaa ki .........
    ye itni achchhi post hai tabhii to tippani par nazar garaaye baithe ho ....bahut acchii rachana hai

    उत्तर देंहटाएं
  11. khoobsurat ahsaas se labrez lagi yah kavita..
    likhte raho...

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रिय शेखर ,

    आपकी टिपण्णी रुपी प्रोत्साहन से प्रभावित होकर आज पहली बार आया आपके ब्लॉग पर .
    आप अपनी आयु से कही अधिक परिपक्व लेखन लिखते हैं . ये रचना भी अच्छी लिखी .
    आप सारी रचनाये छोटी छोटी लिखते हैं .
    !! श्री हरि : !!
    बापूजी की कृपा आप पर सदा बनी रहे

    Email:virender.zte@gmail.com
    Blog:saralkumar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाकई दोस्त...भरी दुपहरी में शमा जलाए बैठे हो...
    बेहतर...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना! चित्र भी मनमोहक है!

    उत्तर देंहटाएं
  15. निकला पतझड सावन, निकला बसंत-बहार |
    किसका इंतजार है, जो आस लगाए बैठी हो ||

    ....बहुत बढ़िया..............और हाँ तस्वीर भी।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत भावपूर्ण रचना!! बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  17. कैसे कैसे राज़ जो ख़ामोशी ने छिपायें रखे है |
    हाय ! ऐसी मोहब्बत जो परदेसी से कर बैठी हो ||

    ........बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुंदर भावों से भरी हुई ..आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  19. जितनी सुंदर कविता उतनी ही सुंदर तस्वीर ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. परदेशी से दिल लगाने की यही नियति है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. shekhar jee ,
    namaskar !
    aap ke pehli baar aane ka avsar prapt hua , sunder blog ki badhai
    sadhuwad

    उत्तर देंहटाएं
  22. निकला पतझड सावन, निकला बसंत-बहार
    किसका इंतजार है, जो आस लगाए बैठी हो ...

    परदेसी तो चले गये ....
    सच है परदेसीयों से न अँखियाँ लगाना ..... अच्छा लिखा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  23. आईये जानें … सफ़लता का मूल मंत्र।

    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुंदर भावों से भरी हुई रचना....
    बहुत बहुत भावपूर्ण बधाई। .....

    उत्तर देंहटाएं
  25. इतनी कम उम्र में भी इतना अच्छा लिखते हो |मन की गहराई तक
    दस्तक दे जाते हो |सुंदर भाव लिए रचना के लिए बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  26. pardesh se mohabbat.........:) ye to virah dega hi..........!!

    ek khubsurat kavita.......god bless!
    mujhe follow karne ke liye majboor hona para:)

    उत्तर देंहटाएं
  27. shukria mere bhai.
    bahut chote ho lekin acchi koshish kar rahe ho ,meri shubhkamnayein tumhare saath hain.

    उत्तर देंहटाएं
  28. mitra abhi kisi jaruri kaam se shahar se bahar jana pad raha hai ....aap apani kalam se blogjagat ko sajaate rahe ...//// filhaal alvida

    उत्तर देंहटाएं
  29. काफी समय से आपकी रचनाएं पढ़ रहा हूं। अब देखता हूं कि उनमें गंभीरता आ रही है। बहुत सुंदर रचना है। हमेशा की तरह एक बार फिर आपको बधाई। बहुत बढिय़ा।

    उत्तर देंहटाएं
  30. सुन्दर रचना

    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    उत्तर देंहटाएं