ये दिल को समझाया न गया

अश्क पलकों पर ही थे , तब भी हम से रोया गया |
बैठी रही तुम सामने, कुछ भी हम से कहा गया ||

मंझिले दूर थी इतनी की कदम हमसे उठायें भी ना गये |
हमसफ़र बदल लिया, इस दिल को समझाया
गया ||


शेखर कुमावत

31 टिप्‍पणियां:

  1. हमसफ़र बदल गया ,ये दिल को समझाया न गया ||
    Bahut khoob.... likha hai dost

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये दिल भी ना जाने कितने फरेब खाता है....

    अच्छी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन के एहसासों को सुन्दर शब्द दिये हैं अच्छा लिखते हो लिखते रहो बहुत बहुत आशीर्वाद। आज कल किसी ब्लाग पर नही आ पा रही हूँ अमेरिका मे हूँ व्यस्त हूँ। समय मिलते ही आऊँगी

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!
    "सच में" पर आने और विचार व्यक्त करने के लिये शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  5. गज़ल पूरी करो भई..बढ़िया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. humse aaya na gaya...tumse bulaya na gaya...
    phasla pyar mein, dono se mitaya na gaya....

    उत्तर देंहटाएं
  7. koshish kariye jyada se jyada pdhne ki... jitna padhenge..jitna shodh karenge ..utna behtar likhenge...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह!! बहुत बढिया!!बहुत सुंदर चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  9. मंझिले दूर थी इतनी की कदम उठायें भी ना गये |
    हमसफ़र बदल गया ,ये दिल को समझाया न गया
    achchha likhte hai aap ,bahut sundar panktiyaan hai .

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut achhe...
    shaandaar panktiyaan...
    mere blog par is baar..
    नयी दुनिया
    jaroor aayein....

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप की "झाड़ू लगाते हुई तस्वीर " कैसी है समझ में नहीं आया ?

    उत्तर देंहटाएं
  12. Bahuthi badhiya likha hai...gar bura na mane to ek baat kahun? Sahi uchharan 'manzilen' hota hai..aapne 'manjhile' likha hai!

    उत्तर देंहटाएं
  13. भाव पक्ष मजबूत है आपका. दो शेर जो आपने लिखे हैं, इन्हें पूरी गजल में ढाला जाना चाहिए. थोडा गजल की टेक्निक और उसकी पाबंदियों का अध्ययन कर लें, मुझे विश्वास है आप और भी अच्छा लिखने लगेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह ,बहुत खूब .लिखते रहो और दीखते रहो

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी रचना रूमानियत से भरपूर है...
    अच्छा लिखते हैं आप..
    लिखते रहिये...

    उत्तर देंहटाएं
  16. शेखर जी, आपकी कई रचनाएं पढ़ीं. आपने इतनी कम उम्र में ये अहसास करा दिया है, कि आपके पास रचना सृजन की कला है. हमारी दुआ है कि आने वाले समय में आपका लेखन और बुलंदी तक जाये.
    शुभकामनाओं सहित

    उत्तर देंहटाएं
  17. शेखर बहुत काम शब्दो में बहुत कुछ कह डाला आपने. बहुत ही लाजवाब!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. अश्क पलकों पर ही थे , फिर भी हम से रोया न गया
    सामने बैठी रही तुम ,फिर भी हम से कहा न गया

    गहरी बात कम शब्दों में .... great ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. acchee abhivyakti.............
    kum par vazanee shavd bahut kuch kah gaye........

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं

Facebook Badge