मुक्तक :-नजरों के तीर


तेरी नजरों के तीर सब जिगर के पार हो गए |
मुसाफिर सारे के सारे ही बीमार हो गए ||

हादसा ये भी हुआ, टूट गए रोजे कई फकीरों के |
खुराफातें तेरी थी, वो मालिक के गुनाहगार हो गए ||

शेखर कुमावत

33 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर शेर भी और चित्र तो कमाल के हैं बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया मुक्तक हैं!
    मगर सुधार के तलबगार हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  3. काबिलेतारीफ है प्रस्तुति।.सारी रचनाये आपकी बहुत ही अच्छी है|

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह....मालिक की खुराफात और बंदे गुनाहगार....बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  5. sangeeta swarup ji waha kuch or he

    jara ek bar or pade

    खुराफातें तेरी थी, वो मालिक के गुनाहगार हो गए

    shekhar kumawat

    उत्तर देंहटाएं
  6. very good writing.....
    kaabile- taarif....
    waiting for your next posts...
    i m following you....hope u'll do the same...

    उत्तर देंहटाएं
  7. तेरी नजरों के तीर सब जिगर के पार हो गए |
    मुसाफिर सारे के सारे ही बीमार हो गए .....very nice.goooooood.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रिय भाई शेखर ,
    तुम्हारा ब्लॉग देख कर आनंद आगया ,ठीक तुम्हारी तरह सुंदर है ,इतने सजीले चित्र दूंढ निकले हैं कि सौंदर्य के मानक तय कर दिए /आप्बहुत आगे जाइयेगा ये चाहत भी है शुभकामना भी /
    सस्नेह,
    डॉ.भूपेन्द्र

    उत्तर देंहटाएं
  9. Bahut badiya likah shekhar bhai aapne very good ,very best

    उत्तर देंहटाएं
  10. गज़ब ... जितनी सुन्दर पंक्तियाँ है उतना सुन्दर की चित्र ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुराफातें तेरी थी, वो मालिक के गुनाहगार हो गए ||Bade chunindaa alfaaz hain yah!

    उत्तर देंहटाएं
  12. very nice,really impressive & charming.....keep it on....!!!!!!

    with best wishings.....

    http://idharudharki1bat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. अमां, इस उम्र में ये तेवर?
    छा गये भाई, शेखर।
    बहुत खूब!

    और अगर बुरा न मानो तो प्रोफ़ाईल में थोड़ा सा सुधार कर लो,(replace write by written) उजली चादर पर छोटा सा धब्बा भी चमकता है।
    आशा है बुरा नहीं मानोगे।

    उत्तर देंहटाएं